भीमराव अम्बेडकर जी के जयंती के उपलक्ष्य में संगोष्ठी एवं रैली कार्यक्रम का हुआ आयोजन

 

कटरा बाजार, गोण्डा। संविधान निर्माता डॉ० भीमराव अम्बेडकर जी के जयंती के उपलक्ष्य में 14 अप्रैल शुक्रवार को संगोष्ठी एवं रैली कार्यक्रम का आयोजन किया गया।


विकास खण्ड कटरा बाजार अन्तर्गत ग्राम पंचायत पूरे बहोरी में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जयंती के उपलक्ष्य में रैली,भाषण एवं संगोष्ठी का आयोजन कर उनके जीवन शैली पर चर्चा की गई। कार्यक्रम का शुभारम्भ पूर्व प्रधान चुनमुन पासवान एवं विशिष्ट अतिथि यूथ क्लब अध्यक्ष रजनीश शुक्ला ने अम्बेडकर जी के चित्र पर माल्यार्पण कर किया। युवा नेता अमर सिंह ने कार्यक्रम का संचालन करते हुए कहा कि डॉक्टर अम्बेडकर जी ने समाज में व्याप्त कुरीतियों एवं अशिक्षा को दूर करने के लिए निचले तबके से आगे आकर पूरे देश को अपना संविधान दिया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए यूथ क्लब अध्यक्ष रजनीश शुक्ला ने कहा कि अम्बेडकर जी द्वारा कहे गए कथन “एक रोटी कम खाओ परंतु अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दो” का अनुसरण कर समाज को शिक्षा के क्षेत्र में आगे बढ़ने की बात कही। क्षेत्र पंचायत सदस्य अंजनी तिवारी ने कहा कि डॉ० अम्बेडकर जी सदैव समाज में व्याप्त बुराइयों के लिए संघर्ष करने तथा पिछड़े वर्गों को आरक्षण देकर उन्हें सामान्य स्थिति में लाने के लिए प्रयासरत रहे। जिला प्रशिक्षक रजनी कान्त तिवारी ने नेहरू युवा केन्द्र द्वारा चलाये जा रहे विभिन्न गतिविधियों के बारे में बताते हुए कहा कि ग्रामीण अंचलों में प्रतिभाओं की कमी नही है,जरूरत है तो बस उसे उचित मार्गदर्शन देकर आगे लाने की। उन्होने कहा कि डॉक्टर अम्बेडकर जी ने समाज को समता के भाव से लाने के लिए संघर्ष किया और आज़ाद भारत को अपना संविधान दिया। जिससे प्रत्येक वर्ग विकास की ओर अग्रसर हो सके।कार्यक्रम में डॉ० सुशील मिश्रा, घनश्याम मिश्रा, आशीष सिंह,नानबाबू , किशुन देव मिश्रा, शिवकुमार चौहान,भुसैली प्रजापति, रोहित सिंह , दिनेश,मुरली पासवान , राम शब्द,राम दुलारे गौतम सहित सैकड़ों लोग उपस्थित रहे।

बाक्स में-

नेहरू युवा केन्द्र के जिला प्रशिक्षक रजनी कान्त तिवारी ने कैच द रैन 3.0 विषय पर प्रकाश डालते हुए लोगों से वर्षा के जल को सरंक्षित करने का टिप्स दिया तथा जल के दुरुपयोग से भविष्य में होने वाले समस्यायों के बारे में बताया।

चित्र परिचय : कैच द रैन 3.0 थीम का पोस्टर प्रदशित करते जिला प्रशिक्षक एवं अन्य।