शहर व गांवों में की जाए नियमित साफ-सफाई

प्रशांत कुमार श्रीवास्तव की रिपोर्ट

शहर व गांवों में की जाए नियमित साफ-सफाई

निष्क्रिय आशाओं की सेवा होगी समाप्त

गोण्डा जिले में एक जुलाई से विशेष संचारी रोग नियंत्रण अभियान शुरू होगा और फिर 17 जुलाई से दस्तक अभियान की आगाज होगा। इसको लेकर शनिवार को कलक्ट्रेट सभागार में *डीएम नेहा शर्मा* की अध्यक्षता में बैठक कर अभियान के बारे में जानकारी दी गई।

डीएम ने सभी विभागों को दिशा निर्देश देते हुए कहा कि सभी लोग मिलकर संचारी रोग नियंत्रण अभियान को सफल बनाएं। डीएम ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि अपने घर के आसपास कहीं भी जलभराव न होने दें। पानी भरे हुए स्थान पर मिट्टी डाल दें। जिससे मच्छरों को पनपने का मौका नहीं मिलेगा।

 

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. रश्मि वर्मा* ने कहा कि पिछला संचारी रोग नियंत्रण माह 1 अप्रैल से 30 अप्रैल तक चलाया गया था। उसी तर्ज पर एक जुलाई से शूरू होने वाले संचारी रोग नियंत्रण माह की पूरी तैयारी कर ली गई है। अन्य विभागों के बीच आपसी समन्वय स्थापित कर अभियान को सफल बनाने का प्रयास किया जायेगा।

सीएमओ ने बताया कि जनपद में संचारी रोग नियंत्रण माह 1 से 31 जुलाई तक एवं 17 जुलाई से 31 जुलाई तक दस्तक अभियान चलाया जाएगा। उन्होंने बताया कि दस्तक अभियान में स्वास्थ्य कार्यकर्ता सावधानी रखते हुए लोगों को मलेरिया, डेंगू, चिकिनगुनिया, फाइलेरिया, टीबी से बचाव के बारे में बेहतर तरीके से जागरूक करें। सीएमओ ने कहा कि अगर हम अपने घर के आस पास सफ़ाई रखेंगे तो संचारी रोगों को पनपने का मौका ही नहीं मिलेगा l सभी कार्य शासन द्वारा जारी किए गए निर्देशों के अनुसार ही किये जायेंगे।

 

स्वास्थ्य कर्मी घर-घर जाकर करेंगे जागरूक

दस्तक अभियान के दौरान प्रशिक्षित आशा कार्यकर्ता तथा आंगनबाड़ी द्वारा घर घर जाकर लोगों को संचारी रोगों से बचाव के उपाय, लक्षण एवं निकटतम स्वास्थ्य केंद्र के बारे में जानकारी उपलब्ध कराई जायेगी। इस दौरान आशा कार्यकर्त्ताओं द्वारा दिमागी बुखार के लक्षणों एवं उपचार के विषय में समुदाय को जागरूक किया जाएगा।

आशा द्वारा घरों के अंदर प्रवेश कर मच्छरों के पैदा होने वाली परिस्थितियों का निरीक्षण किया जाएगा। मलेरिया जांच में भी आशा कार्यकर्ताओं द्वारा सहयोग किया जाएगा। साथ ही कोविड 19 रोग के प्रसार की स्थिति के चलते कई बच्चे टीकाकरण से वंचित रह गए हैं। ऐसे वंचित बच्चों की सूची भी आशा कार्यकर्ताओं द्वारा गृह भ्रमण के दौरान तैयार की जायेगी। जिलाधिकारी ने अधिशासी अधिकारी को निर्देश दिए कि वह शहर में नाले-नाली की साफ-सफाई, कूड़ा उठान आदि नियमित रूप से कराएं। कहीं पर भी गंदगी न पाई जाए अन्यथा सम्बन्धित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

 

स्वास्थ्य कार्यक्रमों में निष्क्रिय आशाओ के खिलाफ होगी कार्यवाही

जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने सीएमओ को सख्त निर्देश दिये कि जो आशाएं स्वास्थ्य कार्यक्रमों पूरी तरह में निष्क्रिय हैं और काम में कोई भी रुचि नहीं ले रही है। ऐसी आशाएं जिन्होंने एक अप्रैल के बाद से कोई भी संस्थागत प्रसव नहीं कराया है उन्हें एक माह का अल्टीमेटम दिया जाये यदि उनके कार्य में कोई सुधार नहीं होता है तो उनकी सेवा समाप्त की जाए। बैठक में मुख्य विकास अधिकारी एम अरुन्मौली, जिला कार्यक्रम अधिकारी, जिला समाज कल्याण अधिकारी, जिला पंचायत राज अधिकारी, समस्त सीएमएस व संबंधित अधिकारीगण मौजूद रहे।