स्वच्छ सर्वेक्षण में गोण्डा को बनाए नंबर एक – लोगों को स्वच्छता के प्रति किया जाए जागरूक – डीएम

प्रशांत कुमार श्रीवास्तव की रिपोर्ट

सिंगल यूज प्लास्टिक के खिलाफ चलाया जाए अभियान – डीएम

गोण्डा, – सोमवार को जिलाधिकारी नेहा शर्मा (DM Neha Sharma) ने कलेक्ट्रेट के सभागार कक्ष में सभी नगर निकायों के अधिशासी अधिकारियों के साथ स्वच्छ सर्वेक्षण के संबंध में विस्तृत चर्चा की। उन्होंने सभी अधिशासी अधिकारियों को निर्देश दिए कि जनपद को स्वच्छ सर्वेक्षण में नंबर एक बनाना है। अतः नगर निकायों में स्वच्छता को प्राथमिकता के आधार पर लिया जाए। हर वार्ड में डोर टू डोर कूड़ा कलेक्शन किया जाए। कूड़ा गाड़ियों व सफाई कर्मचारियों की संख्या बढ़ाकर पूरे शहर को स्वच्छ बनाया जाए। सभी पब्लिक टॉयलेट्स को साफ़ रखा जाए साथ ही उनका यूज भी सुनिश्चित किया जाये। कार्यदायी संस्था व पंजीकृत ठेकेदारों द्वारा जो भवन निर्माण गिराए जाते हैं उसके मलबे को उचित निस्तारण कराया जाए। शहर के सभी पार्को का सौन्दर्यीकरण किया जाए। उन्होंने नगर निकाय व अन्य विभागों को आपस में समन्वय बनाकर काम करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि स्वच्छ सर्वेक्षण मे सभी नगर निकाय अच्छा काम करें यदि कहीं पर लापरवाही हुई तो कार्रवाई जरूर की जाएगी। उन्होंने सिंगल यूज़ प्लास्टिक के खिलाफ अभियान चलाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिन आयोजनों में सिंगल यूज प्लास्टिक का प्रयोग होता है उसके आयोजनकर्ता के खिलाफ कार्रवाई की जाए। जनपद में सिंगल उस प्लास्टिक को बढ़ावा न दिया जाए। उन्होंने सभी स्कूलों, विद्यालयों, उद्यमियों, शिक्षकों आदि के साथ बैठक कर स्वच्छता सर्वेक्षण के संबंध में जागरूकता फैलाने के निर्देश दिए।

डीएम ने कहा कि स्वच्छ सर्वेक्षण का मुख्य लक्ष्य बड़े पैमाने पर नागरिक भागीदारी को प्रोत्साहित करना और समाज के सभी वर्गों के बीच स्वच्छता और साफ-सफाई के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा करना और कस्बों और शहरों को रहने के लिए बेहतर स्थान बनाने की दिशा में मिलकर काम करना है। बैठक में सिटी मजिस्ट्रेट व सभी नगर निकायों के अधिशासी अधिकारी मौजूद रहे।