69000 शिक्षक भर्ती मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट की डबल बेंच के फैसले के खिलाफ सरकार की बेशर्मी

प्रशांत कुमार श्रीवास्तव की रिपोर्ट

लखनऊ 69000 शिक्षक भर्ती : एक अंक विवाद के 2249 अभ्यार्थियों की मेरिट निर्धारण के लिए नौवें दिन जारी रहा इको गार्डन में धरना

परिषदीय विद्यालयों की 69000 शिक्षक भर्ती परीक्षा के शैक्षिक परिभाषा प्रश्न पर एक अंक विवाद से प्रभावित अभ्यर्थियों का इको गार्डन में नौवे दिन शांतिपूर्ण धरना प्रदर्शन जारी रहा। इन अभ्यर्थियों को धरना देते हुए नौ दिन पूर्ण हो चुके हैं सुप्रीम कोर्ट के आदेश के 10 माह बीत जाने के बाद भी अभी तक इन अभ्यर्थियों के पक्ष में शासन द्वारा निर्णय नहीं लिया गया है इसी कारण धरना अनवरत चलता रहेगा। अभ्यर्थियों का कहना है कि बहुत जल्द हम सैकड़ों अभ्यर्थी मुख्यमंत्री आवास का घेराव कर मुख्यमंत्री जी से अपनी नियुक्ति की मांग करेंगे।

मामला यह है कि 10 माह पहले 09 नवंबर 2022 के दिन सुप्रीम कोर्ट में सरकार की अपील को खारिज करते हुए 25 अगस्त 2021 इलाहाबाद हाईकोर्ट की डबल बेंच के आदेश को बरकरार रखते हुए शैक्षिक परिभाषा प्रश्न पर एक अंक देकर मेरिट के अनुसार विभाग में नियुक्त करने का आदेश पारित किया।

नौ दिन से धरना प्रदर्शन कर रहे दुर्गेश शुक्ला, रोहित शुक्ला, राम मिश्रा, प्रसून दीक्षित का कहना है कि परीक्षा नियामक प्राधिकारी के सचिव अनिल भूषण चतुर्वेदी के द्वारा 2 मार्च को 2249 अभ्यर्थियों की सूची को बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव प्रताप सिंह बघेल के पास अंतिम कटऑफ मेरिट निर्धारण के लिए पास भेजी गई थी 5 माह बीत जाने पर भी सचिव बेसिक परिषद द्वारा कोई भी कार्यवाही नहीं की गई है। बेसिक विभाग को उच्चस्तरीय मीटिंग कर 2249 अभ्यार्थियों की नियुक्ति मामले का निस्तारण करना चाहिए। जिससे हम बेसिक शिक्षा विभाग में नियुक्ति का प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकें।